बीसीसीआई ने भरत अरुण को टीम इंडिया का नया बॉलिंग कोच बनाया

119
टीम इंडिया के नए बॉलिंग कोच अरुण भरत।
Breaking News
There is no post

स्पोर्ट्स डेस्क. बीसीसीआई ने भरत अरुण को टीम इंडिया का नया बॉलिंग कोच बना दिया है। अरुण टीम इंडिया के पूर्व क्रिकेटर हैं, जिन्होंने भारत की ओर से 2 टेस्ट और 4 वनडे मैच खेले। टीम के नए हेड कोच बनाए गए रवि शास्त्री ने ही जहीर खान की जगह पर अरुण को टीम का बॉलिंग कोच बनवाया है। अरुण इससे पहले भी टीम में ये जिम्मेदारी निभा चुके हैं। ऐसा रहा है क्रिकेट करियर…
– अरुण भरत का जन्म 14 दिसंबर 1962 को आंध्र प्रदेश के विजयवाड़ा में हुआ। अपने क्रिकेट करियर के दौरान वे मीडियम पेसर बॉलर और अटैकिंग लोअर ऑर्डर बैट्समैन रहे।
– अरुण ने दिसंबर 1986 में कानपुर में श्रीलंका के खिलाफ टेस्ट मैच खेलते हुए भारत के लिए डेब्यू किया था। हालांकि उनका टेस्ट करियर ज्यादा लंबा नहीं चला।
– डेब्यू टेस्ट मैच में 3/76 विकेट लेकर वे सबसे सफल बॉलर साबित हुए थे। जबकि उस मैच में कपिल देव, चेतन शर्मा, रवि शास्त्री भी खेले थे।
– भगत ने अपने टेस्ट करियर में केवल दो मैच ही खेले, ये दोनों मैच श्रीलंका के खिलाफ रहे। जिसमें उन्होंने 29 के एवरेज से कुल 4 विकेट लिए।
– वहीं उनके वनडे करियर में उन्होंने 4 मैच खेले। जो कि श्रीलंका, इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया और पाकिस्तान के खिलाफ रहे। शारजाह में अप्रैल 1987 में उन्होंने पाकिस्तान के खिलाफ आखिरी वनडे खेला था। जिसमें उन्हें कोई विकेट नहीं मिला।
– अपने वनडे करियर में वे 103 के एवरेज से केवल 1 विकेट ही ले सके। जो कि उन्होंने श्रीलंका के खिलाफ लिया था।
शास्त्री ने निभाई दोस्ती, अरुण बने बॉलिंग कोच
– सचिन-सौरव और लक्ष्मण की सीएसी ने पिछले हफ्ते रवि शास्त्री को टीम का हेड कोच चुनने के साथ ही राहुल द्रविड़ को विदेशी टूर पर बैटिंग कोच और जहीर खान को बॉलिंग कंसल्टेंट बनाया था।
– राहुल और जहीर को जिम्मेदारी मिलने पर रवि शास्त्री इसके विरोध में आ गए थे। उन्होंने बीसीसीआई के आगे आपत्ति जताते हुए अरुण भगत को बॉलिंग कोच बनाने के लिए अपनी ओर से पूरा जोर लगा दिया। जिसके बाद बीसीसीआई को भी उनकी मांग के आगे झुकना पड़ा।
– टीम इंडिया के इन दोनों प्लेयर्स की दोस्ती काफी पुरानी है। रवि शास्त्री जब 1979 में भारत की अंडर-19 टीम के कप्तान थे, तब भरत अरुण भी उसी टीम के मेंबर थे।
– इसके बाद जब 1986 में अरुण ने टीम इंडिया में टेस्ट और वनडे डेब्यू किया था, उस वक्त भी शास्त्री टीम के मेंबर थे।
– साल 2014 में जब रवि शास्त्री टीम डायरेक्टर थे, तब भी अरुण ही टीम के बॉलिंग कोच थे। कहा जाता है कि तब भी रवि शास्त्री के ही कहने पर एन. श्रीनिवासन ने भरत अरुण को टीम को ये जिम्मेदारी दी थी।
– जब तक रवि शास्त्री टीम इंडिया के मैनेजर और डायरेक्टर बने रहे तब तक भरत अरुण भी टीम के साथ रहे। लेकिन पिछले साल कुंबले के कोच बनने के बाद भरत अरुण को बॉलिंग कोच से हटा दिया गया।