भार्इ दूज पर बहनों ने भाइयों का तिलक कर मांगी मन्नतें

49
Breaking News
दुनिया का चक्कर लगाने वालीं INSV तारिणी की 6 महिला कमांडरों से मिले पीएम मोदीतीन साल तक पेट्रोल-डीजल पर लकी थे मोदी, एक साल से किस्मत खराबग्वालियर: आंध्र प्रदेश एसी एक्सप्रेस ट्रेन के 4 कोच में लगी आग, यात्री सुरक्षितकर्नाटक का असर: क्या बीजेपी के मिशन 400 के लिए चुनौती होगा साउथ?कर्नाटक: कांग्रेस-जेडीएस की जीत में ये बने ‘गेमचेंजर’हम सबको मिलकर बनाना होगा गंदगी मुक्त भारत- योगेन्द्र कुमार साहूहल्द्वानीः राजपुरा क्षेत्र में गहराता जा रहा है पेयजल संकट- हेमंत साहूजानें वट सावित्री व्रत में वट वृक्ष का क्‍या है महत्‍वयूपीः सीतापुर में आदमखोर कुत्तों का आतंक, प्रशासन ने बच्चों का सड़क पर निकलना किया बैनचुनाव प्रचार के आखिरी दिन राहुल गांधी का बीजेपी-मोदी पर हल्ला बोल

हल्द्वानी: भाई दूज भार्इ-बहन के प्यार का त्योहार है। यह त्योहार पूरे देशभर में मनाया जाता है। उत्तराखंड में भी बहनों ने अपने भाइयों का तिलक उन्हें अपना प्यार दिया और भार्इ दूज मनाया। इसके साथ ही उन्होंने भार उनके सुखी और समृद्ध जीवन की कामना की।
भाई दूज त्योहार का अपना अलग ही महत्व है। इस दिन बहने अपने भाई की पूजा कर उसका तिलक करती है और उसे नारियल भेंट करती हैं। भार्इ भी अपनी बहन को प्यार स्वरूप कर्इ उपहार भेंट करता है। जहां पूरे उत्तराखंड भार्इ-बहनों ने इस पर्व को मनाया तो वहीं हल्द्वानी में भैया दूज पर महिलाओं ने गाय के गोबर से गणेश बनाकर उसकी पूजा की। इसके साथ ही उन्होंने परिजनों की सुख समृद्धि की कामना की। इस दौरान उन्होंने अपने नारियल का प्रसाद भी वितरित किया।
रामपुर रोड स्थित छठ पूजा स्थल पर सुबह छह बजे पूर्वांचल समाज की महिलाएं एकत्र हुई और सामूहिक रूप से पूजन किया। बीते शुक्रवार को गोवर्धन पूजा के दिन पूजन स्थल पर गोबर से गणेश बनाकर स्थापित किए गए। अब 24 अक्टूबर से छठ पूजन शुरू होगा। 26 की शाम भगवान को पहला अर्घ्य दिया जाएगा, 27 की सुबह उदयीमान सूर्यदेव को अर्घ्य देने के बाद छठ के महाव्रत का पारायण होगा।