केंद्रीय मंत्री संतोष गंगवार का विवादित बयान- इतने बड़े देश में रेप की 1-2 घटनाएं हो जाती हैं, बात का बतंगड़ न बनाएं

20
केंद्रीय मंत्री संतोष गंगवार

नई दिल्ली। एक तरफ केंद्रीय कैबिनेट ने नाबालिग से रेप पर मौत की सजा को मंजूरी देते हुए अध्यादेश लाने का फैसला किया है तो वहीं मोदी सरकार के अपने ही मंत्री ने रेप पर विवादित बयान दे दिया है। केंद्रीय मंत्री संतोष गंगवार ने कहा है कि इतने बड़े देश में 1-2 घटना हो जाए तो बात का बतंगड़ नहीं बनाना चाहिए।
गौरतलब है कि उन्नाव, कठुआ, सूरत और इंदौर की घटनाओं के बाद रेप के दोषियों को फांसी की सजा देने की मांग की जा रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को विदेश दौरे से लौटते ही कैबिनेट की बैठक बुलाकर अध्यादेश लाने का फैसला किया, लेकिन अब उनके ही मंत्री के इस संवेदनशील मामले पर बेतुके बयान से सरकार की फजीहत हो सकती है।
केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री संतोष गंगवार ने कहा, ‘ऐसी घटनाएं (रेप के मामले) दुर्भाग्यपूर्ण होती हैं पर कभी-कभी रोका नहीं जा सकता है। सरकार सक्रिय है सब जगह, कार्रवाई कर रही है। इतने बड़े देश में 1-2 घटना हो जाए तो बात का बतंगड़ नहीं बनाना चाहिए।’
उधर, 2012 दिल्ली गैंगरेप पीड़िता की मां आशा देवी ने पॉक्सो ऐक्ट में संशोधन के लिए अध्यादेश के सरकार के फैसले का स्वागत किया है। उन्होंने कहा, ‘यह 12 साल से कम उम्र की नाबालिग (रेप पीड़ितों) के लिए एक अच्छा कदम है पर उनका क्या जिनकी उम्र ज्यादा है? रेप से बड़ा जघन्य अपराध दूसरा नहीं होता, इससे बड़ा दर्द नहीं होता। हर रेपिस्ट को फांसी की सजा होनी चाहिए।’

Breaking News
दुनिया का चक्कर लगाने वालीं INSV तारिणी की 6 महिला कमांडरों से मिले पीएम मोदीतीन साल तक पेट्रोल-डीजल पर लकी थे मोदी, एक साल से किस्मत खराबग्वालियर: आंध्र प्रदेश एसी एक्सप्रेस ट्रेन के 4 कोच में लगी आग, यात्री सुरक्षितकर्नाटक का असर: क्या बीजेपी के मिशन 400 के लिए चुनौती होगा साउथ?कर्नाटक: कांग्रेस-जेडीएस की जीत में ये बने ‘गेमचेंजर’हम सबको मिलकर बनाना होगा गंदगी मुक्त भारत- योगेन्द्र कुमार साहूहल्द्वानीः राजपुरा क्षेत्र में गहराता जा रहा है पेयजल संकट- हेमंत साहूजानें वट सावित्री व्रत में वट वृक्ष का क्‍या है महत्‍वयूपीः सीतापुर में आदमखोर कुत्तों का आतंक, प्रशासन ने बच्चों का सड़क पर निकलना किया बैनचुनाव प्रचार के आखिरी दिन राहुल गांधी का बीजेपी-मोदी पर हल्ला बोल